छोटी बातें बड़ा असर…..

संजना अपने बेटे के साथ घर के बाहर खड़ी थी। तभी उसके सामने एक व्यक्ति उसके घर के गेट के सामने गाड़ी खड़ी करने लगा। संजना के मना करने पर वो बोला बस पांच मिनट का काम है बाज़ार में, फिर वह गाड़ी निकाल लेगा। संजना ने इशारा करके उसे बताया कि सामने ही बाज़ार में आने वाली गाड़ियों के लिए पार्किंग है, वहां गाड़ी खड़ी कर लीजिए और उसका कोई भुगतान भी नहीं है।
इतना सुनकर वो व्यक्ति गाड़ी में बैठा और पार्किंग की तरफ चल पड़ा। पर संजना कि हैरानी का ठिकाना नहीं रहा जब उसने देखा कि उसने गाड़ी अंदर पार्किंग में खड़ी करने ही बजाए उसके सामने बाहर सड़क पर ही एक दुकान के आगे खड़ी कर दी और चला गया। फिर संजना का ध्यान गया कि ऐसी ही तीन चार गाड़ियां ऐसे ही सड़क पर खड़ी थी और अंदर पार्किंग खाली थी।
असल में संजना का घर शहर के मुख्य बाज़ार में बीचों बीच था। वाहनों का आवागमन सारा दिन लगा रहता था। त्योहारों के दिनों में तो और भी यातायात जाम हो जाता था। लोगो को बहुत असुविधा होती थीं। इसी वजह से स्थानीय नगर निगम ने लोगो की समस्या देख कर यहां पर एक बड़े से मैदान में पार्किंग की मुफ्त व्यवस्था की थी। ताकि लोगो की गाड़ी सड़क में खड़ी ना हो और यातायात भी ना रुके।
पर उस दिन संजना को एहसास हुआ कि लोगो को हो क्या गया है?
क्या हमारा काम सिर्फ और सिर्फ सरकार या स्थानीय व्यवस्था में कमियां निकलने का ही है? अगर कोई काम अच्छा हुआ है तो हम उसकी तारीफ क्यों नहीं कर सकते? हमारा कोई नैतिक कर्तव्य नहीं है? दो मिनट ज्यादा दे कर कोई गाड़ी पार्किंग में खड़ी नहीं करना चाहता की समय बर्बाद होगा, पर उसके कारण सड़क पर जाने वाले लोगो , वाहनों को चाहे कितनी भी मुश्किल आ जाए।
पहले पार्किंग नहीं थी तो समस्या थी, अब है तो समस्या है। भाई इतना समय लगा कर कोई गाड़ी अंदर कैसे खड़ी करे? बहुत काम होता है ना! यह तो एक छोटी सी उदाहरण है। एक अच्छे नागरिक होने के अपने कर्तव्य तो हम निभा ही सकते है। और उसके लिए कुछ बड़ा नहीं करना पड़ता। छोटी छोटी सी बातें ही होती है जैसे गाड़ी पार्किंग में लगाना, पानी को व्यर्थ होने से रोकना, बिजली का जितनी जरूरत हो उतना प्रयोग करना, सड़क पर कचरा नहीं फेकना, प्लास्टिक का प्रयोग करने से बचना इत्यादि।
यह तो कुछ कुछ काम है, ऐसे छोटे छोटे काम करके थोड़ा थोड़ा अपनी तरफ से भी योगदान दे कर देखिए, अच्छा लगेगा। आवश्यक नहीं है कि देश की सेवा सिर्फ हमारे सैनिक या सामाजिक कार्यकर्ता ही कर सकते है, हम सब उसमे अपनी भागीदारी कर सकते है।

“आपकी जाति क्या है?”

रिया का बेटा सुबह ही जिद्द कर रहा था कि पार्क में जाकर खेलना है । रिया ने उसे मनाने की बहुत कोशिश की कि अभी घर में ही खेलते है शाम को पार्क चलेंगे। पर उसने जिद नहीं छोड़ी। आखिर में रिया को अपने बेटे के साथ पार्क में जाना ही पड़ा। वहां पर एक छोटी बच्ची , उसकी आयु २ साल की होगी अपनी बहन के साथ खेल रही थी। बहन की आयु १० १२ साल की होगी।
रिया का बेटा भी उनके साथ जाकर खेलने लगा। कभी झूलों पर तो कभी अपनी बॉल के साथ। थोड़ी देर खेलने के बाद उस बच्ची की बहन रिया के पास आकर पूछती है कि आप किस जाति के हो?
रिया एकदम से यह प्रश्न एक १० १२ साल की बच्ची के मुंह से सुन कर आश्चर्यचित रह जाती है। उस बच्ची ने ना कोई नाम पूछा ना कुछ सीधे ही ऐसा सवाल।
फिर रिया ने उससे पूछा कि आप तो बच्चे हो आप उसका नाम पूछो आपको जाति जान कर क्या करना है?
उसने बोला नहीं में तो ऐसे ही पूछ रही थी। इतना कहने के बाद वह अपनी बहन को लेकर वहां से चली गई।अभी रिया का बेटा और उसकी बहन आपस में खेल रहे थे।
रिया इस घटना से बहुत हैरान हुई। वह सोचने लगी कि यह बच्चे ऐसा क्या देखते सुनते है जो इस उम्र में भी इनको जात पात का पता है। खेलने के लिए भी कोई जाति पूछ कर खेलता है क्या?
हमारा समाज किस दिशा में जा रहा है? क्यों हम जात पात को इतना महत्व देते है? क्या इसके बिना एक आदमी कि पहचान पूरी नहीं हो सकती?
जब आरक्षण की बात भी आती है तो क्यों वो भी इस कास्ट सिस्टम तक ही सीमित हो कर रह जाती है? अगर यह किसी के फायदे के लिए है तो उनको मिले जिन्हें जरूरी है , जो दिन भर मेहनत करते है ताकि रोटी मिल जाए , पर अपने बच्चो को पढ़ा नहीं पाते। २१वी सदी में आ कर जहां सब कुछ डिजिटल, कंप्यूटराइज्ड हो रहा है क्यों हम इस छोटी सी बात में आगे नहीं बढ़ पाते।
कब हम इन छोटी छोटी बातों से उपर उठ कर बड़ा सोचेंगे? आखिर कहां कमी रह जाती है कि हमारे बच्चे भी इन बातों से अछूते नहीं है?

ਇਕ ਰਿਸ਼ਤਾ ਆਪਣੇ ਆਪ ਨਾਲ….

ਜਿੰਦਗੀ ਦਾ ਹਰ ਪੜਾਅ ਕੁਛ ਨਾ ਕੁਛ ਸਿਖਾ ਕੇ ਹੀ ਜਾਂਦਾ ਆ। ਕੁਛ ਮਿੱਠੀ ਸਿੱਖ ਹੁੰਦੀ ਆ ਤੇ ਕੁਛ ਕੋੜੀ। ਇਕ ਦਿਨ ਰੌਸ਼ਨੀ ਤੇ ਉਸਦੇ ਪਤੀ ਵਿਚ ਗੱਲਬਾਤ ਹੋ ਰਹੀ ਸੀ। ਗੱਲ ਕਰਦੇ ਕਰਦੇ ਕਦੋਂ ਓਹ ਬਚਪਨ ਦੀਆਂ ਯਾਦਾਂ ਵਲ ਤੁਰ ਪਈ ਪਤਾ ਹੀ ਨਹੀਂ ਲੱਗਾ । ਉਸ ਵੇਲੇ ਪਤੀ ਪਤਨੀ ਦੀਆਂ ਗੱਲਾਂ ਤਾਂ ਖਤਮ ਹੋ ਗਈਆਂ। ਪਰ ਰੌਸ਼ਨੀ ਉਸ ਤੋਂ ਬਾਅਦ ਵੀ ਕਿੰਨੀ ਦੇਰ ਸੋਚਦੀ ਰਹੀ। ਉਸਨੂੰ ਲੱਗਾ ਜਿਵੇਂ ਓਹ ਆਪਣੇ ਆਪ ਤੋਂ ਕਿੰਨੀ ਦੂਰ ਹੋਈ ਜਾਂਦੀ ਸੀ। ਇਕ ਇਨਸਾਨ ਆਪਣੇ ਮਾਂ ਬਾਪ, ਬਚਿਆ, ਰਿਸ਼ਤੇਦਾਰਾਂ ਨਾਲ ਤਾਂ ਸਾਰੀ ਉਮਰ ਨਿਭਾ ਲੈਂਦਾ ਆ। ਪਰ ਆਪਣਾ ਸਾਥ ਕਿਉਂ ਛੱਡ ਦਿੰਦਾ ਆ?
           ਰੌਸ਼ਨੀ ਵੀ ਇਹੀ ਸੋਚ ਰਹੀ ਸੀ। ਕਦੇ ਆਪਣੇ ਆਪ ਨਾਲ ਕੋਈ ਗੱਲ ਹੀ ਨਹੀਂ ਕੀਤੀ। ਬੱਸ ਜਿੱਦਾਂ ਜਿੱਦਾਂ ਜਿੰਦਗੀ ਚਲਦੀ ਰਹੀ ਓਹ ਵੀ ਨਾਲ ਤੁਰਦੀ ਰਹੀ। ਉਸ ਦਿਨ ਓਹ ਆਪਣੇ ਆਪ ਨਾਲ ਬੈਠੀ। ਉਸਨੂੰ ਅਹਿਸਾਸ ਹੋਇਆ ਕਿ ਕਿੰਨਾ ਕੁਛ ਬਦਲ ਗਿਆ ਹੈ ਉਸ ਵਿਚ। ਉਸਨੂੰ ਯਾਦ ਆਇਆ ਕਿਵੇਂ ਬਚਪਨ ਚ ਉਸਨੂੰ ਆਲੂ ਦੇ ਪਰਾਂਠੇ ਪਸੰਦ ਸੀ। ਪਰ ਹੁਣ ਤਾਂ ਕੋਈ ਏਦਾ ਦਾ ਚਾਅ ਨਹੀਂ ਰਿਹਾ ਸੀ।
             ਥੋੜੇ ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ ਓਹ ਇਕ ਫਾਰਮ ਭਰ ਰਹੀ ਸੀ। ਜਿਸ ਵਿਚ  ਮਨਪਸੰਦ ਖਾਣ ਵਾਲੀ ਚੀਜ ਲਿਖਣੀ ਸੀ। ਪਰ ਓਸਨੂੰ ਕਿੰਨਾ ਸਮਾਂ ਲਗ ਗਿਆ ਸੋਚਣ ਲਈ ਕਿ ਸਭ ਤੋਂ ਜਿਆਦਾ ਕਿ ਪਸੰਦ ਆ? ਪਰ ਫੇਰ ਵੀ ਕੋਈ ਜਵਾਬ ਨਹੀਂ ਮਿਲਿਆ ਸੀ।
         ਉਸ ਦਿਨ ਉਸਨੇ ਸੋਚ ਲਿਆ ਸੀ। ਪਹਿਲੇ ਓਹ ਆਪਣੇ ਆਪ ਨਾਲ ਆਪਣਾ ਰਿਸ਼ਤਾ ਬਣਾਏਗੀ। ਪਰ ਫੇਰ ਇਕ ਸਵਾਲ ਆਇਆ ਕਿ ਕਿਵੇਂ ? ਕਿਦਾ ਬਣਾਇਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ ਇਹ ਰਿਸ਼ਤਾ?
       ਇਹ ਰਿਸ਼ਤਾ ਸ਼ੁਰੂ ਕਰਨ ਲਈ ਪਹਿਲੇ ਉਹਨੂੰ ਆਪਣੀਆਂ ਯਾਦਾਂ ਸਹੇਜਨਿਆ ਪੈਨ ਗਿਆ। ਆਪਣੀ ਜਿੰਦਗੀ ਚ ਕਿ ਕਿ ਕਰਕੇ ਓਹ ਏਥੇ ਤੱਕ ਪਹੁੰਚੀ ਹੈ। ਕਿਉ ਸਭ ਕੁਛ ਭੁਲੀ ਜਾ ਰਹੀ ਆ। ਉਸਦਾ ਸਕੂਲ ਸਮਾਂ। ਉਸਨੂੰ ਯਾਦ ਆਇਆ ਓਹ ਤਾਂ ਕੋਈ ਵੀ ਮੁਕਾਬਲਾ ਛੱਡ ਦੀ ਨਹੀਂ ਸੀ। ਕਿੰਨਾ ਚਾਅ ਸੀ ਉਸਨੂੰ ਸਟੇਜ ਤੇ ਚੜ੍ਹਨ ਦਾ। ਪੜ੍ਹਾਈ ਚ ਵੀ ਅਵੱਲ ਸੀ ਓਹ।
                  ਕਾਫੀ ਸ਼ੋਪ ਤੇ ਸਮਾਂ ਬਿਤਾਨਾ ਉਸਦਾ ਸਭ ਤੋਂ ਪਸੰਦੀਦਾ ਕੰਮ ਸੀ। ੧ ਕਾਫੀ ਤੇ ੧ ਕਿਤਾਬ ਬੱਸ ਸਾਰਾ ਦਿਨ ਓਹ ਬੈਠੀ ਰਹਿ ਸਕਦੀ ਸੀ। ਫਾਲਤੂ ਦੀਆਂ ਗੱਲਾਂ ਕਰਨੀਆਂ ਪਸੰਦ ਨਹੀਂ ਸੀ ਉਸਨੂੰ।
                 ਉਸਦੇ ਮਾਂ ਬਾਪ ਨੇ ਹਮੇਸ਼ਾ ਹੀ ਉਸਨੂੰ ਉਤਸਾਹਿਤ ਕੀਤਾ ਸੀ । ਉਸਨੂੰ ਯਾਦ ਆਇਆ ਕਿਦਾ ਉਸਦੀ ਆਪਣੇ ਵੀਰੇ ਨਾਲ ਬਹਿਸ ਹੋ ਜਾਂਦੀ ਸੀ। ਪਰ ਕਦੇ ਉਹਨਾਂ ਨੇ ਲੜਾਈ ਨਹੀਂ ਕੀਤੀ ਸੀ। ਕਿਵੇਂ ਸਭ ਕੁਛ ਹੌਲੀ ਹੌਲੀ ਧੁੰਧਲਾ ਹੋਣ ਲਗ ਜਾਂਦਾ ਹੈ।
     ਅਸੀਂ ਆਪਣੀ ਜਿੰਮੇਦਾਰੀਆਂ ਚ ਇੰਨਾ ਰੂਝ ਜਾਂਦੇ ਆ ਕਿ ਆਪਣੇ ਆਪ ਨੂੰ ਭੁੱਲ ਹੀ ਜਾਂਦੇ ਆ। ਆਓ ਪਹਿਲੇ ਹੋਰ ਰਿਸ਼ਤੇ ਨਿਭਾਉਣ ਤੋਂ ਪਹਿਲਾਂ ਆਪਣੇ ਆਪ ਨਾਲ ਰਿਸ਼ਤੇ ਨੂੰ ਮਜਬੂਤ ਕਰੀਏ।

अगले जन्म मुझे बिटिया ना किजो …..

आभा तीन चार दिन से बहुत परेशान थी। उसके पापा को बहुत तेज़ बुखार आ रहा था। कोई दवाई भी असर नहीं कर रही थी। उसे पता था कि उसके भाई भाभी पापा का पूरा ध्यान रख रहे है। पर फिर भी उसे अपने पापा पास जाना था। एक तो समय ऐसा था, हर तरफ कोरोना फेला हुआ था। उसका छोटा बच्चा होने की वजह से उसे यात्रा करना भी ठीक नहीं लग रहा था।
पर फिर भी उसका मन नहीं लग रहा था। चाहे वह पास जा कर उनको ठीक नहीं कर सकती थी, पर एक तसल्ली हो जाती कि पापा आंखों के सामने है। इसी कशमकश में दिन निकल रहे थे। बस मौका ढूंढ़ रही थी वो।

और आज इतनी मजबूरी है कि वह उनके पास तक नहीं जा सकती। वो इस अपराध बोध से ग्रस्त हो रही थी। काश वो भी एक लड़का होती तो अपने भाई की तरह इस मौके पर अपने पापा के साथ होती।
पर अभी तो वह बस दूर रहते हुए ,दुआ ही कर सकती है कि उसके पापा जल्दी से ठीक हो और फोन पर उनकी पहले की तरह रोबदार आवाज़ सुनाई दे।
इस सारे हालात में उसे यह भी आभास हुआ कि उसका छोटा सा भाई अचानक कितना बड़ा हो गया है। उसे तो यह लगता था कि अभी दोनों छोटे बच्चे (भाई भाभी) ही तो है, बेचारे अकेले कैसे सब संभालेंगे। पर उन्होंने सब कुछ इतना अच्छे से निभाया कि वह आश्चर्य चकित होने के साथ साथ बहुत खुश भी थी।
बस अब भगवान से यही प्रार्थना है कि वो सब कुछ जल्दी से ठीक कर दे। अगर आप यह पढ़ रहे है तो आप से भी विनती है कि सब ठीक होने की दुआ जरूर कीजिएगा।

बैठे बैठे सोच रही थी, कैसे जब कभी वह बीमार होती थी या कोई चोट लगती थी तो उसके मम्मा-पापा परेशान हो जाते थे। शहर का कोई डॉक्टर नहीं छोड़ते थे। रात रात भर जागते रहते थे। जब तक वह पूरी तरह ठीक नहीं हो जाती थी तब तक चैन से नहीं बैठते थे।

ਵਹਿਮ…. “ਕਹਿੰਦੇ ਆ!”

“ਓਹੋ ਨੀ ਤੂੰ ਵੀਰਵਾਰ ਦੇ ਦਿਨ ਵੀ ਬਾਲ ਧੋ ਕੇ ਆ ਗਈ। ਕਿੰਨੀ ਵਾਰ ਸਮਝਾਇਆ ਆ ਇਸ ਕੁੜੀ ਨੂੰ , ਇਹ ਨਹੀਂ ਮੰਨਦੀ।” ਭੋਲੀ ਦੀ ਦਾਦੀ ਨੇ ਉਸਨੂੰ ਝਿੜਕਦੇ ਹੋਏ ਕਿਹਾ। “ਤਾਂ ਮੈਂ ਵੀ ਤਾਂ ਤੁਹਾਨੂੰ ਕਿੰਨੀ ਬਾਰੀ ਪੁੱਛਿਆ ਆ ਕਿ ਇਹ ਤਾਂ ਦੱਸ ਦੋ ਕਿ ਮੇਰਾ ਵੀਰਵਾਰ ਬਾਲ ਧੋਣਾ  ਮੇਰੇ ਵੀਰੇ ਲਈ ਕਿਦਾ ਮਾੜਾ ਹੋ ਸਕਦਾ ਹੈ। ਮੈਨੂੰ ਇਹ ਸਮਝ ਨਹੀਂ ਆਉਂਦੀ ਸਾਡੇ ਬਾਲ ਧੋਣ ਨਾਲ ਉਹਨਾਂ ਦਾ ਕਿ ਲੈਣਾ ਦੇਣਾ?” ਭੋਲੀ ਗੁੱਸੇ ਚ ਬੋਲੀ।
” ਠੀਕ ਆ ਬਈ, ਕਰ ਲਓ ਆਪਣੀ ਮਰਜ਼ੀ । ਦੱਸਣਾ ਮੇਰਾ ਫਰਜ਼ ਆ। ਸਾਨੂੰ ਵੀ ਇਹੀ ਕਿਹਾ ਗਿਆ ਸੀ। ਕਹਿੰਦੇ ਆ ਨਹੀਂ ਚੰਗਾ ਹੁੰਦਾ। ” ਭੋਲੀ ਦੀ ਦਾਦੀ ਨੇ ਉਸਨੂੰ ਕਿਹਾ। ਬੱਸ ਭੋਲੀ ਨੂੰ ਅੱਜ ਤੱਕ ਇਹੀ ਗੱਲ ਨਹੀਂ ਸਮਝ ਆਈ ਕਿ ਇਹ ਕਿਹੜੇ ਲੋਕੀ ਕਹਿੰਦੇ ਆ? ਕਿੱਸੇ ਨੂੰ ਵੀ ਕੋਈ ਕਾਰਣ ਤਾਂ ਪਤਾ ਨਹੀਂ ਹੁੰਦਾ। ਕਿੱਥੇ ਰਹਿੰਦੇ ਆ ਇਹ ਲੋਕ? ਇਹ ਸਾਰੇ ਵਹਿਮ ਕਿਦਾ ਬਣੇ? ਕਿੱਸੇ ਦਾ ਕੋਈ ਤੁੱਕ ਬਣਦਾ ਹੋਵੇ ਤਾਂ ਸੋਚੀਏ ਵੀ। ਸਾਰੇ ਦਿਨ ਜੇ ਰੱਬ ਦੇ ਆ ਫੇਰ ਦਿਨਾਂ ਲਈ ਇਹ ਨਿਯਮ ਕਿਉਂ? ਖਾਸ ਕਰਕੇ ਮੰਗਲਵਾਰ, ਵੀਰਵਾਰ , ਸ਼ਨੀਵਾਰ। ਬਾਲ ਨਾ ਧੋਵੋ, ਕੱਪੜੇ ਨਾ ਧੋਵੋ, ਨੂੰਹ ਨਾ ਕਟੋ। ਅੌਫੋ , ਭੋਲੀ ਦੇ ਇੰਨੇ ਸਾਰੇ ਸਵਾਲਾਂ ਦਾ ਜਵਾਬ ਕੌਣ ਦਵੇ? ਜਿਵੇਂ ਜਿਵੇਂ ਓਹ ਵੱਡੀ ਹੁੰਦੀ ਗਈ ਨਵੇਂ ਨਵੇਂ ਵਹਿਮ ਉਸਦੇ ਕੰਨੀ ਪੈਂਦੇ ਗਏ। ਤੇ ਓਹ ਹੋਰ ਇਹਨਾਂ ਦੇ ਖਿਲ਼ਾਫ ਹੁੰਦੀ ਗਈ। ਉਸਨੂੰ ਚਿੜ ਹੋਣ ਲਗ ਪਈ ਸੀ ਇਹਨਾਂ ਸਭ ਵਹਿਮਾਂ ਤੋਂ। ਜੁੱਤੀ ਏਦਾ ਨਹੀਂ ਉਦਾ ਰੱਖੋ। ਘਰ ਏਦਾ ਨਹੀਂ ਉਦਾ ਬਣਾਓ। ਪਤਾ ਨਹੀਂ ਕਿ ਕਿ ?
                ਉਹਨੂੰ ਬੱਸ ਇੰਨਾ ਪਤਾ ਸੀ ਕਿ ਜੈ ਰੱਬ ਤੇ ਭਰੋਸਾ ਹੋਵੇ ਤਾਂ ਸਭ ਠੀਕ ਆ। ਮਨ ਸੱਚਾ ਹੋਣਾ ਚਾਹੀਦਾ। ਬੱਸ ਉਸਨੇ ਇਹੀ ਗੱਲ ਪੱਲੇ ਬੰਨ ਲਈ। ਹਮੇਸ਼ਾ ਚੰਗਾ ਕਰੋ , ਚੰਗਾ ਸੋਚੋ, ਜਰੂਰਤ ਮੰਦ ਦੀ ਮਦਦ ਕਰੋ ਤੇ ਰੱਬ ਦਾ ਨਾਂ ਲਵੋ। ਬੱਸ ਬਾਕੀ ਸਭ ਲੋਕਾਂ ਦੇ ਆਪਣੇ ਆਪਣੇ ਸਹੂਲੀਅਤ ਦੇ ਹਿਸਾਬ ਨਾਲ ਬਣਾਏ ਹੋਏ ਕੁਝ ਨਿਯਮ ਆ ਜਿਹਨਾਂ ਦਾ ਕੋਈ ਪੁਕਤਾ ਵਜੂਦ ਨਹੀਂ ਆ। ਜੇਕਰ ਤੁਹਾਨੂੰ ਇਹਨਾਂ ਲੋਕਾਂ ਦਾ ਪਤਾ ਪਤਾ ਆ ਤਾਂ ਜਰੂਰ ਦੱਸਿਓ , ਕਈ ਸਵਾਲਾਂ ਦੇ ਜਵਾਬ ਲੱਭਣੇ ਆ।

मां एक औरत भी है।

कल मैने विद्या बालन अभिनीत शकुन्तला देवी चलचित्र देखी। फिल्म बहुत ही अच्छी थी। विद्या बालन ने भी हर बार की तरह अपने पात्र के साथ पूरा न्याय किया है। फिल्म में बहुत से उतार चढ़ाव है। पर सबसे ज्यादा जिस भाग ने छुआ वह था एक मां और बेटी के रिश्ते का प्रस्तुीकरण। एक सफल औरत मां बनने के बाद किस तरह अपने कैरियर व मातृत्व के बीच में उलझती है। उसे, अपना कैरियर भी आगे बढ़ना है पर अपनी बेटी को भी नहीं छोड़ना चाहती। अजीब सी विडमबना में फस जाती है।
इस फिल्म ने इतना एहसास तो करवा दिया कि जब हम बच्चे होते है तो हम भी शायद अपनी मां को सिर्फ मां की तरह ही देखते है, जो हमारा ध्यान रखे, हमारी जरुरते समझे , जब हम स्कूल से या काम से घर आए तो वह हमें घर में ही दिखे, पर यह भूल जाते है कि एक मां होने के साथ साथ वह एक औरत भी है । जिसकी हम बच्चों के इलावा भी कोई और इच्छा हो सकती है।
मैने भी अपनी मां को सारा दिन हमारे लिए ही काम करते देखा है। मुझे याद है जब हमें बोला जाता था कि बेटा तुम्हारी नानी तुम्हारी मां की मां है। तो मैं बहुत हैरान होती थी कि लो मम्मा की भी कोई मम्मा हो सकती है वो तो खुद ही मां है। उसे यह पता होता था कि कौन से बच्चे को खाने के लिए क्या पसंद है और वह हर दूसरे चौथे दिन बन जाता था। पर मुझे यह नहीं याद कि कभी मैने उनसे कहा हो मम्मा आज जो आपको पसंद है वह बनाते है।
मैने कभी यह भी नहीं पूछा कि जो जगह आपको पसंद हो इस बार वहां घूमने चलते है। इन सब बातों का एहसास तब ही होता है जब हम खुद एक मां बन जाते है। क्यों एक औरत मां बनने के बाद औरत होना भूल जाती है? एक पत्नी होना भूल जाती है? उसका बच्चा ही उसकी दुनिया बन जाता है? जब बच्चे अपनी अपनी जिंदगी में व्यस्त हो जाते है तब वो क्या करती है? एक मां पूरी अपनी जिंदगी अपने बच्चे के नाम कर देती है। मम्मा और सब माओं को मेरा नमन। बस यही कोशिश करना की मां बनने के साथ साथ उसके पहले की औरत को भी जिंदा रखना। मम्मा शुक्रिया हर एक बात का। मैं आपसे बहुत प्यार करती हूं मां।

#तीज़ # पति की याद

उसने दरवाजे से  बाहर देखा, और उसकी खुशी का कोई ठिकाना नहीं था। उसका वीरा आया था । सावन का महीना शुरू हो चुका था। तीज़ का त्योहार आ रहा था। उसकी शादी को केवल दो महीने ही हुए थे। शादी के बाद पहले तीज़ उत्सव का अपना ही चाव होता है। वह तुरंत अपनी सासू मां को बताने के लिए अंदर गई। उसने पहले से ही अपनी तैयारी कर रखी थी। अपनी सासू जी व ससुर जी  के आशीर्वाद के साथ, वीरा को चाय और पानी देने के बाद, वह ख़ुशी-ख़ुशी अपने मायके चली गई।                       

 उसकी सहेलियां भी वहां थी। बस फिर क्या था  तीज़ के दिन सभी ने सुंदर कपड़े पहने, पैरों में पाजेबे डाली, सोलह सिंगार किया, सांझी जगह पर इकट्ठी हो गई।   

   सभी शादीशुदा सहेलियां अपने ससुराल और अपने पति के बारे में बात करने लगे। कुछ को सास मां जैसी  मिली थी और किसी के  ससुर पापा जैसे  थे। फिर बात पति पर आयी। कुछ बोली  कि मेरे पति को यह पसंद है और कुछ बोली  उन्हें वो पसंद है। लेकिन जब  पति की बात आई  तो  वह चुप कर गई ?                        सभी सहेलियां उससे पूछने लगी कि क्या हुआ? सब ठीक है, ना? उसने कहा, “मेरी सास बहुत अच्छी हैं। मेरा देवर  भी मुझे अपनी माँ की तरह मानता हैं। लेकिन मैं उस घर में जिसके  कारण से गई हूं उसके  बारे में कुछ भी  नहीं जानती।” सभी सहेलियां आश्चर्यचकित थी। वे सभी एक साथ बोली, “ओह कैसे? तुम एक दूसरे से बात नहीं करते? वह तुम्हारे साथ नहीं रहता?” कई सवाल उसे घेरने लगे।               फिर उसने कहा, “मेरे पति सेना में है। हमारी शादी के अगले दिन, उन्हें ड्यूटी पर बुलाया गया था और उन्हें जाना पड़ा। तब से हमारी बात बस चिठियों से ही हुई है। और मुझे बस यही पता है कि उन्हें उनकी माँ के हाथों के आलू के परांठे बहुत पसंद है फिल्में देखना बहुत पसंद है।” मुझे पता है कि तीज़ कहीं न कहीं पति की सुरक्षा के लिए मनाई जाती है। यह हार शिंगर  उनके लिए ही तो है। मैने तो आज का  उपवास भी रखा है। मेरी ईश्वर से यही प्रार्थना है  कि जैसे मेरे पति दिन-रात अपने देश की रक्षा कर रहे हैं, वैसे ही भगवान उनकी रक्षा करें। और मैं अपना कर्तव्य पूरा करते हुए, उनके माता-पिता का ध्यान रखूं। ”                      यह कहते ही उसकी आँखों में आँसू आ गए। उसकी सहेलियां  उससे चिपक गई।